About Agniveer

Agniveer aims to establish a culture of enlightened living that aims to maximize bliss for maximum. To achieve this, Agniveer believes in certain principles:
1. Entire humanity is one single family irrespective of religion, region, caste, gender or any other artificial discriminant.
2. All our actions must be conducted with utmost responsibility towards the world.
3. Human beings are not chemical reactions that will extinguish one day. More than wealth, they need respect, dignity and justice.
4. One must constantly strive to strengthen the good and decimate the bad.
5. Principles and values far exceed any other wealth in world
6. Love all, hate none

Agniveer was founded by Shri Sanjeev Newar, an IIT-IIM professional, data scientist, and Yogi to provide a solution-oriented, spiritually driven, and honest approach to improving the world – within and outside an individual. Agniveer specializes in practical applications of timeless wisdom of Vedas, Geeta, and Yoga to address the contemporary challenges of life. Thousands of testimonials of transformation – from people who were on verge of committing suicide, fighting depression, confused about life, directionless, unable to address social injustice around – attest the massive change it has been able to bring.

Agniveer takes credit in bringing several ignored, uncomfortable but critical issues to public attention. Agniveer is the leading advocate of social equality in India and pioneer of ‘Dalit Yajna’ initiative to break caste and gender barriers. Agniveer spearheaded the Muslim women rights campaign facing severe backlash from conservative and fanatic elements. Yet, it was successful in bringing details of disgusting practices like Halala, sex-slavery, polygamy, triple talaq, Love Jihad to limelight and evolving a consensus against them. Agniveer women helpline deals with such cases and has brought many smiles.

Agniveer also introduced the concept of unarmed combat workshops across sensitive parts of country to create a skilled team that is able to defend vulnerable from criminals. Agniveer is a prominent champion of de-radicalization and has brought innumerable youth to join the mainstream path. Agniveer’s narrative on history has created a significant momentum to question the authenticity of populist history taught out of political compulsions.

Agniveer has published several books on social equality, caste equality, gender equality, human rights, the controversial religious rights and history, apart from books on self-help, Yoga, Hinduism, and life-hacks. Readers appreciate the books for straightforward, original, solution-oriented, practical, fresh, and mind-bending experience.
Everyone keen to live a meaningful life to fullest is welcome to join or support Agniveer mission.

AGNIVEER
SERVING NATION | PROTECTING DHARMA

Nothing Found

अग्निवीर – संक्षिप्त परिचय

भारत के दो सर्वाधिक प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थानों – भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIT and IIM) से शिक्षा प्राप्त एक वैज्ञानिक योगी श्री संजीव नेवर द्वारा संस्थापित अग्निवीर आज धर्म, दर्शन, विज्ञान और आध्यात्म के परस्पर समन्वय से उठी एक शक्ति बन कर उभरा है जो समाज में मनुष्य के व्यक्तिगत, सामाजिक, और आत्मिक विकास में अतुल्य योगदान दे सके। प्राचीन वेदों के गूढ़ रहस्यों से लेकर भगवद्गीता के कर्म संदेश तक और गीता से लेकर वास्तविक योग तक की हर सिद्धि और शक्ति को मानव मात्र के कल्याण में लगाने के दृढ़ संकल्प के साथ अग्निवीर कर्मक्षेत्र में दृढ़ता से खड़ा है। हज़ारों मित्रों के पत्र, ईमेल और धन्यवाद संदेश अग्निवीर के सार्थक प्रयासों की एक झलक देते हैं। वीरता, ओज, कर्म और पुरुषार्थ से ओतप्रोत अग्निवीर के वैदिक संदेशों के साथ आत्महत्या के विचारों, क्षोभ, अवसाद, हार, रोग, और दुःख से ग्रसित सैंकड़ों लोगों में नया जीवन जीने की राह फिर से पैदा हुई। किसी भी प्रकार के अन्याय के विरुद्ध डट कर लड़ने और उस पर विजयी होने की सात्विक भावना फिर से प्रबल हुई।

शक्तिशाली अन्यायी के सामने डर, समझौते, समर्पण और झूठे इतिहास के कारण ज़मीन में दफ़न कर दिए गए मुद्दों को भारतीय जनमानस में दोबारा जीवित करने के पीछे अग्निवीर एक मुख्य कारक है। समाज में जात पात और लिंगभेद को मिटाने के उद्देश्य से शुरू किए गए अग्निवीर दलित यज्ञ आज जहाँ सामाजिक एकता की नयी मिसाल बन कर उभरे हैं वहीं सदियों पुरानी इस समस्या के समाधान का मार्ग भी प्रशस्त करते हैं। मज़हबी कट्टरता और कठमुल्ला मानसिकता से त्रस्त मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की एकमात्र आवाज़ बनकर उभरने वाले अग्निवीर ने एक से ज़्यादा बीवियों की रिवायत, तीन तलाक़, हलाला, और ज़बरदस्ती मज़हबी वेश्यावृत्ति, लव जिहाद के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद की। इसके फलस्वरूप कट्टरपंथी निशाने पर आने के बावजूद अग्निवीर ने सैंकड़ों महिलाओं को मज़हबी दहशतगर्दी से निजात दिलाई। अग्निवीर की ऑनलाइन तत्काल सहायता सेवा ने कितनी ही ऐसी जिंदगियों में फिर से मुस्कुराहट बिखेरी।

देश में बढ़ते आतंकवाद, कट्टरता और असुरक्षा के माहौल के बीच अग्निवीर ने निःशस्त्र आत्मरक्षा की कार्यशाला की नींव डाली। देश के कई संवेदनशील शहरों और स्थानों में नियमित अग्निवीर कार्यशालाएँ असुरक्षित वर्ग में आत्मरक्षा की भावना पैदा करती हैं। सैंकड़ों युवा जो भटक कर आतंकवाद और मज़हबी कट्टरपंथ के रास्ते पर चल पड़े थे, उनको वापस मानवता में लाने का श्रेय अग्निवीर को जाता है। भारत के इतिहास की किताबों में आक्रांतों और हमलावरों के शर्मनाक हमलों को इतिहास का सुनहरा दौर बताने की शर्मनाक रिवायत को अग्निवीर ने ही पहली बार अकाट्य प्रमाणों, तथ्यों और तर्कों के साथ इतने संवेग के साथ ध्वस्त किया है कि सरकारें भूल सुधार को विवश हैं।

सामाजिक एकता, महिला अधिकार, मानव अधिकार, मज़हबी कट्टरता, इतिहास और धर्मों के तुलनात्मक अध्ययन पर कई प्रामाणिक पुस्तकों के प्रकाशन से जहाँ अग्निवीर ने दीर्घकालिक सुधार की एक ठोस नींव रखी है वहीं योग, आध्यात्म, सनातन हिंदू धर्म और जीत व जोश की प्रेरणा देने वाली अतुल्य पुस्तकों से मानव मात्र को प्रेम, एकता और वीरता के वैदिक पथ पर चलने के लिए प्रेरित किया है।
अग्निवीर से जुड़िए और सार्थक जीवन का आनंद लीजिए।

AGNIVEER
SERVING NATION | PROTECTING DHARMA

Nothing Found