बलिदान

Courage Agniveer

हजारों आवाजें एक साथ उठ रही थीं- अपना धर्म छोड़ दे। पर शेर अकम्प खड़ा था। माता की आँख में आंसू थे। उसने माँ के आंसू पोंछे। जल्लाद के आगे सर तान लिया, अगले ही पल वो पावन सर मातृभूमि की गोद में था। बालक मर चुका था पर धर्म जी उठा था। ये था हकीकत राय का अमर बलिदान।

फिल्म हैदर- एक फौजी की नजर में

India Kashmir

फिल्म हैदर एक फौजी के नजरिये से! जिसने कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ते हुए अपना हाथ खोया और कई दोस्त खोये। पर फिर भी देश के लिए प्यार और जज्बा नहीं खोया।

मनुस्मृति और दंडविधान

Manusmrit and Shudra

क्या मनुस्मृति में शूद्रों के लिए कठोर दंड का विधान है ? क्यों मनुस्मृति आधारित दंड व्यवस्था ही देश में से भ्रष्टाचार दूर करने का उत्तम मार्ग है ? जानने के लिए पढ़े !