मादर ए वतन

महाराणा प्रताप जयंती पर अग्निवीर की तुच्छ भेंट. हिन्दुस्तान के हजार साल के स्वतंत्रता संग्राम के कुछ न मिटाए जा सकने वाले पन्ने इस छोटी सी कविता में. पढ़ें और प्रचार करें!

माँ

Mother

मेरी भी नहीं तेरी भी नहीं वो तो होती सबकी सांझी माँ
ना हिंदू की ना मुस्लिम की माँ तो बस एक होती है माँ

बचपन और जवानी

बचपन-और-जवानी

जवानी आयी और बचपन विदा हो गया! पर जाते जाते बचपन कुछ कह गया! बचपन की जवानी को सीख, इस कविता में.

तुलादान

Rukmini and Krishna

श्रीकृष्ण और उनकी पत्नी रुक्मिणी के वैवाहिक जीवन की एक घटना का काव्य रूपांतरण। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन पर्व पर अग्निवीर की यह भेंट!

हवन की महिमा

Krishna performing Agnihotra

हवन क्या है? अपने जीवन को उजले कर्मों से और चमकाने का संकल्प! अपने सब पाप, छल, विफलता, रोग, झूठ, दुर्भाग्य आदि को इस दिव्य अग्नि में जला डालने का संकल्प! हर नए दिन में एक नयी उड़ान भरने का संकल्प, हर नयी रात में नए सपने देखने का संकल्प! उस ईश्वर रूपी अग्नि में खुद को आहुति बनाके उसका हो जाने का संकल्प, उस दिव्य लौ में अपनी लौ लगाने का संकल्प और इस संसार के दुखों से छूट कर अग्नि के समान ऊपर उठ मुक्त होने का संकल्प! हवन मेरी सफलता का आर्ग है. हवन मेरी मुक्ति का मार्ग है, ईश्वर से मिलाने का मार्ग है.

वैदिक ईश्वर

Vedic God

वेदों का ईश्वर कैसा है? वो एक है या अनेक? वो क्या करता है, क्यों करता है? सब जानने के लिए इस लेख को पढ़ें और प्रचार करें!

महाराणा प्रताप

Rana Pratap

महाराणा प्रताप के जीवन की कुछ घटनाएं इस कविता में हैं। भारत माँ के कुछ दमदार पुत्र ऐसे हैं जिन्होंने विपत्ति के समय में भी दुनिया में इस देश का नाम गुंजाये रखा। महाराणा प्रताप ऐसा ही एक नाम है।

नारी – अदम्य साहस की प्रतिमा

Woman valor

वेदों पर आधारित एक बलिष्ठ और सशक्त समाज में स्त्री का सहज गुण उसका साहस है| उसका यह साहस उसकी अपनी आत्मा और मन के बल से उपजता है, यह साहस कोई दुस्साहस नहीं है|