• नवरात्री के पहले दिन, बुलंदशहर उत्तर प्रदेश में मंदिर पर गन्दा पानी फेंका गया।
  • हावड़ा, पश्चिम बंगाल में मां दुर्गा की प्रतिमा अपवित्र की गई।

भारतीय सनाने पकिस्तान में घुस कर सर्जिकल स्ट्राइक्स् कर दी। पर हमें अभी देश के अन्दर हजारों सर्जिकल स्ट्राइक्स् करनी पड़ेगी। क्योंकि हम भारतवासियों के साथ यही परेशानी है कि हम समस्या के मूल तक नहीं जाते। हम पाकिस्तान पर सिर्फ एक सर्जिकल स्ट्राइक करके खुश हो रहे हैं लेकिन खुद पाकिस्तान या पाकिस्तान को बनाने वाली सोच पर हम चिंतित नहीं हैं। 

क्या कोई मुझे यह बताएगा कि सन् १९४७ से भारत में क्या बदलाव हुए हैं?

  • क्या पाकिस्तान को जन्म देनेवाली सोच का खात्मा हुआ है?
  • क्या जिन नारों से पाकिस्तान बना (नारा –ए- तकबीर इत्यादि) पर कोई प्रतिबन्ध लग सका है?
  • क्या अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय जैसे संस्थान जिन्होंने पाकिस्तानी मुहीम चलाई थी, बंद हो पाएं हैं?
  • सबसे जरूरी – क्या वो जिहादी मानसिकता – जो कहती है कि अल्लाह की निगाह में मूर्तिपूजा सबसे बड़ा गुनाह है और हर मुसलमान का यह फर्ज है कि वह मूर्तिपूजकों से लड़े (कुरान ९/५, ९/२९, ९८/६ इत्यादि) नष्ट हो पाएं हैं?
  • क्या मानसिक, सामाजिक, मौखिक और शारीरिक जिहाद को संचालित करने की शिक्षा देनेवाली मानसिकता का खात्मा हो सका है?
  • वो धार्मिक (?) या मजहबी किताबें जो गैर-ईमानवालों को काफ़िर और सबसे नीच प्राणी कहती हैं – प्रतिबन्धित हो सकी हैं?
  • क्या वो इबादत घर जो ऐसी नफरत को बढ़ावा देते हैं, पनाह देते हैं और जहां से धर्मान्तरण का गोरखधंधा या रैकेट चलाया जाता हो प्रतिबन्धित हो पाए?

यदि नहीं तो हम क्यों ५६ इंच के सीने की लफ्फाजी करके खुश हो रहे हैं? इसमें कोई शक नहीं कि हम ने बहुत अच्छा काम किया है। लेकिन हमारे सामने खतरा बहुत भीषण है और हमारे प्रयास अभी तक सिर्फ १ इंच ही हो पाएं हैं। अभी तो हमें ५५ इंच की लम्बी दूरी तय करनी है और वह भी बहुत तेजी से।

जिहादी मूर्तिपूजकों के साथ युद्ध कर रहे हैं। जिहादी अन्दर और बाहर दोनों ओर से भारत के साथ युद्ध कर रहे हैं और यदि भारत पराजित हो गया तो कोई गैर-जिहादी नहीं बचेगा। मानवता सदा के लिए मर जाएगी। यह धरा और यहां के वासी, पाकिस्तान की तरह सदा के लिए सऊदी के गुलाम हो जाएंगे।

जो दिल्ली या मुंबई या अन्य महानगरों के आलिशान और चाकचौबंद इलाकों में जन्में हैं, वे शायद मेरी बात न समझ पाएं। लेकिन छोटे शहरों और मिश्रित जनसंख्या में जन्में और पश्चिम उत्तर प्रदेश, कश्मीर, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, केरल, हैदराबाद, मेवात और पठानवाडी इत्यादि जगहों पर रहनेवाले लोग मेरी बात आसानी से समझ जाएंगे। दस वर्षों पहले तक हिन्दू त्यौहारों को जिस सुगमता और सुख-शांति से मनाया जाता था, वह अब ख़त्म हो गई है और आज से आने वाले दस वर्षों बाद स्थिति और भी भयंकर होगी।

जो लोग इस गुंडागर्दी के खिलाफ़ लड़ना चाहते हों, वे अग्निवीर से अवश्य जुड़ें। भारत, भारतवासी, धर्म और मासूम लोगों की अंदरुनी सांपों से सुरक्षा करने के लिए हम भारतवर्ष के हर एक शहर में अग्निवीर की टीम का गठन कर रहे हैं। हम नहीं चाहते कि फ़िर से खून की नदियां बहें, सामूहिक नरसंहार हों और फ़िर से कोई लाहौर या श्रीनगर बने। राजनीतिक औचित्य या पॉलिटिकल करेक्टनेस का राग अलापना बंद करें।

एजेंडा सिर्फ एक है। आप इन गुंडों को सभी तरह से रोकेंगे। आप कानून के रखवालों की शांति बहाल करने में मदद करेंगे। जहां कानून का पालन नहीं होता – कुछ नाम दिए जा चुके हैं – वहां आप को जनता और कानून दोनों की सुरक्षा करनी होगी – एकता से, बल से, संख्या से, प्रचंडता से, आक्रामकता से।

शामिल होने के लिए यहाँ क्लिक करें। अपने मित्रों को भी बताएं।

जिहादी चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा एक भूली बिसरी याद बन जाए तो आइए, पर एसा उससे पहेले हमें इन सूअरों को ही इतिहास की बात बना देना हैं।

विश्लेषण का समय गया, अब कुछ कर दिखाने का समय आ चूका है।

प्रश्न: यदि मैं अग्निवीर टीम में शामिल हो जाऊं तो मुझे क्या करना होगा? मेरा मतलब है कि इस टीम से आपकी वास्तव में क्या अपेक्षाएं हैं?

  • प्रसार करके अधिक सदस्य बनाएं।
  • अन्याय का विरोध करें – एफ़.आई.आर दर्ज करवा कर, जन मोर्चा निकाल कर, पत्रक बांट कर या ज्ञापन देकर, प्रचार करके, मुहीम चला कर और हर संभव तरीके से।
  • जन जागृति लाएं।
  • उपद्रवियों को यह पता चलना चाहिए कि उनकी एक मूर्खता उन पर सर्जिकल स्ट्राइक से भी ज्यादा भारी पड़ेगी।

(इसकी विस्तृत चर्चा अन्य माध्यमों से होगी।)

अग्निवीर टीम से जुड़ने के लिए यहां रजिस्टर करें।

जय भवानी!

For original English article, please visit:

Pakistan & snakes WITHIN – URGENT need for more surgical strikes | Join Agniveer

 

 

Facebook Comments

Liked the post? Make a contribution and help bring change.

Disclaimer: By Quran and Hadiths, we do not refer to their original meanings. We only refer to interpretations made by fanatics and terrorists to justify their kill and rape. We highly respect the original Quran, Hadiths and their creators. We also respect Muslim heroes like APJ Abdul Kalam who are our role models. Our fight is against those who misinterpret them and malign Islam by associating it with terrorism. For example, Mughals, ISIS, Al Qaeda, and every other person who justifies sex-slavery, rape of daughter-in-law and other heinous acts. For full disclaimer, visit "Please read this" in Top and Footer Menu.

Join the debate

1 Comment on "अग्निवीर के साथ भारत में सर्जिकल स्ट्राइक्स्"

Notify of
avatar
500
Truth

Don’t do dwesh sanju !

wpDiscuz