शांति पाठ

ये सारे द्युतिमान पिंड जो भ्रमण गगन में करते हैं।
इन से शांति मिले प्रभु हमको विनय यही हम करते हैं॥
अंतरिक्ष दे हमें शांति को पृथिवी पर हम पाएं शांति ।
जल से हमको शांति मिले प्रभु ओषधियाँ दे हमको शांति॥

शांति दान दे वनस्पति सब मानव हित सुखदायक हों ।
देव गणों की कृपा रहे प्रभु शुभ सुख शांति प्रदायक हों ॥
अखिल विश्व में व्याप्त ब्रह्म भी हमको शांति सदा ही दे।
ये सब हों कल्याण प्रदाता इन से सबको शांति मिले ॥

शांति शांति ही शांति मिले प्रभु सारे जीव शांति पाएं ।
भौतिक दुःख से छूट जाएं सब प्राणिमात्र सुख को पाएं ॥
दैविक दुःख का शमन करो प्रभु दैहिक दुःख सब होवें शांति।
सबका मंगल सबका शुभ हो शांति शांति हो शांतिः शांति ॥

रचयिता – श्री चिंता मणि वर्मा (साहित्य रत्न ,B.Sc(Phys.))
संरक्षक
आर्य सत्संग मंडल ,मांडले ,म्यांमा (बर्मा)
email: jigyasu.aryakali@gmail.com

The 4 Vedas Complete (English)

The 4 Vedas Complete (English)

Buy Now
Print Friendly

Comments

  1. Neelkamal arya says

      {{ OM }}
    Priey agniveer ji, aausmaanbhave ! atti sunder ! man khil ottha, hindi me shanti path padr kar, kaleyaan ho ! aap aadhyatm-path prasesth ho, mangel kamana hai. om…om…om

  2. Neelkamal arya says

    {{ओम}} Priey agniveer जी aausmaanbhave! atti अलग करना! आदमी khil ottha, हिन्दी मुझे शांति पथ padr कर, हो kaleyaan! आप के aadhyatm-पथ prasesth हो चारे का चुक़ंदर, kamana हैं. ओम … … ओम ओम

  3. shabdika says

    Shanti keejiye prabhu tribhuvan mein / Jal mein thal mein aur gagan mein/Antriksh mein agni pavan mein/Aushadh vanaspati van upvan mein/Jivan matr ke ho tan man mein / Sare jagat ke ho kan-kan mein /Shanti keejiye prabhu tribhuvan mein/
    Namaskar respected Jigiasu ji.U are doing a great work.U are spreading the truth of light in Mayanmar.Bravo! your translation of shanti path is very beautiful and correct.i love it. There is another Jigiasu ji (Rajendr jigiasu ji) here in panjab who is like Agniveer ji is replieng befitting answers to anti
    hiduism or veds or saytarth prakash.My hats off to him too.

    • Minendra Bisen says

      शांति पाठ
      प्रभु त्रिभुवन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      जल में थल में और गगन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      अन्तरिक्ष में अग्नि-पवन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      औषधि-वनस्पति और वन-उपवन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      सकल विश्व के जड़-चेतन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      प्रभु त्रिभुवन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      शांति विश्व निर्माण सृजन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      नगर ग्राम और भवन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      जीव मात्र के तन में मन में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      और जगत के हर कण-कण में शांति कीजिये शांति कीजिये.
      प्रभु त्रिभुवन में शांति कीजिये शांति कीजिये.

  4. shabdika says

    शांति keejiye प्रभु त्रिभुवन / जल mein थाल mein aur गगन / Antriksh mein अग्नि Pavan / Aushadh वनस्पति वैन upvan / Jivan matr के हो तन / आदमी सारे जगत के कण हो-kan mein / शांति keejiye प्रभु त्रिभुवन mein / नमस्कार mein mein mein mein mein सम्मान Jigiasu ji.U कर रहे हैं एक महान work.U Mayanmar.Bravo में प्रकाश की सच्चाई फैल रहे हैं! शांति पथ के अपने अनुवाद बहुत सुंदर है और correct.i इसे प्यार करता हूँ. वहाँ है एक और जी Jigiasu (Rajendr jigiasu जी) यहां पंजाब कौन Agniveer है बंद उसे करने के लिए विरोधी hiduism या veds या saytarth prakash.My टोपी को करारा जवाब भी replieng जी की तरह है में.

  5. "Aryaveer" says

    Kripaya sabhi note karen SHANTI KIJIYE PRABHU TRIBHUVAN MEIN… yah Vaidik Shantipath mantra ka kavyanuvaad nahin hai Kewal is geet ka mukhda hi wah bhi aanshik anuvaad hai. antare is ke sare Bhavanuvaad hi kahe ja sakte hein.

    Is ka sampoorna kavyanuvaad Delhi ke Swargiya Dharmaveer Shastri dwara likhit Nimn prakaar se hai.

    Mile Shanti wah Prabhuvar hum ko

    Jo Ravi kiranon mein muskaye
    Antariksh ko jo mahakaye
    Vasudha par saurabh ban chaye
    Vyapak reh jal ke srooton mein
    Karen sukhi jeevanbhar humko

    Syamal-syamal van upavan mein
    Vividh anna-phal-patra-suman ye
    Jeeva jagat ke avalamban ye
    rahen nirapad karen samarpit
    chashak shanti ke bhar-bhar humko

    Sukhad shaktiyan bhautik sari
    Vidvad-vrind na mithya chari
    Ropen nahin anaya ki kyaari
    Paap-taap se mukt sarvatha
    Swasti shanti ka var do humko

    Sab apna kartavya nibahein
    Mukt gyan ki ho sab rahen
    Sab sab ki hi unnati chahen
    Rahe shanti hi shanti sarvatah
    Prabhu itna mridu kar do humko

    Note : yah geet bhi SHANTI KIJIYE PRABHU TRIBHUVAN MEIN… ki tarj par hi gaya ja sakta hai. Music ke sath gaya hua geet koi mahanubhav chahen to <aryaveer@rediffmail.com> par sampark karen mail dwara bhej diya jayega. Dhanyavaad.

    Aryaveer

  6. "Aryaveer" says

    Kripaya sabhi नोट करेन शांति कीजिये प्रभु त्रिभुवन MEIN … हाँ Vaidik Shantipath मंत्र का kavyanuvaad nahin हैं Kewal गित का mukhda हाय wah bhi aanshik anuvaad हैं है. antare के सारे Bhavanuvaad हाय काहे ja sakte Hein है. है का सम्पूर्ण kavyanuvaad दिल्ली के Swargiya Dharmaveer शास्त्री dwara likhit Nimn prakaar se हैं. मील शांति wah Prabhuvar गुंजन मैं जो रवि kiranon mein muskaye Antariksh मैं jo mahakaye वसुधा बराबर सौरभ प्रतिबंध chaye Vyapak रह जल के srooton mein करेन sukhi jeevanbhar हमको Syamal-syamal वैन upavan mein विविध अन्ना-phal-पत्र-सुमन तु Jeeva जगत के avalamban तु राहें करेन samarpit chashak शांति के भर भर हमको-Sukhad shaktiyan bhautik साड़ी Vidvad-vrind ना mithya चारी Ropen nahin Anaya की kyaari पाप-taap से मुक्त sarvatha Swasti शांति का var करना हमको साब अपना kartavya nibahein मुक्त ज्ञान की हो साब राहें साब साब nirapad yah bhi गित शांति कीजिये प्रभु त्रिभुवन MEIN …: हाय की उन्नति chahen Rahe शांति हाय शांति sarvatah प्रभु इतना mridu कर हमको नोट करना की tarj बराबर हाय गया ja sakta हैं. गया हुआ गीत कोई mahanubhav chahen sath संगीत के बराबर संपर्क करेन मेल dwara bhej दिया जायेगा <aryaveer@rediffmail.com> करने के लिए. Dhanyavaad. Aryaveer

  7. shabdika says

    oh1 great1 Dhanyabad aryaveer ji. i listened it in one of arya sabha in panjab after the compeletion of the Yjaye which I recalled and wrote above after reading the wonderfull anuvad of shantipath by Chintamani Verma of Mayanmar.
    Agniveer ji, I want to know the chronlogical list of arya shahids from rights to the ends.Can you give it in your posts or let me know its any site.
    Sometimes I have to clear my adhyatmic doubts about god or ultimate truth. From which site or living rishi can i enquire pl?

    • Arya says

      @Shabdika,
      Sister, there are so many in the list that they can not be given here. Many were assassinated at the hands of muslim fanatics. Pandit Lekhram (in 1897), Swami Shraddhanand (in 1926), Mahashay Rajpal (in 1929), and many more. Apart from those, there is whole list of martyrs, who were killed mercilessly by the Muslims of Nijam state during Hyderabad Satyagrah. To know more in this regard, please ask Shri Rajendra Jijyasu of Abohar. He is an authority on the history of Arya Samaj and martyrs.

      Regarding Adhyatmik doubts, I suggest you to contact Agniveer Ji. He is no less than any scholar I guess!

  8. shabdika says

    oh1 great1 Dhanyabad aryaveer जी. मैं यह एक आर्य सभा में Yjaye जो मुझे स्मरण और म्यांमार के चिंतामणि वर्मा द्वारा shantipath की anuvad wonderfull पढ़ने के बाद से ऊपर लिखा compeletion के बाद पंजाब में सुनी. Agniveer जी, मैं ends.Can आप इसे अपनी पोस्ट में दे या मुझे अपनी किसी भी साइट पता करने के अधिकार से आर्य shahids की chronlogical सूची जानना चाहता हूँ. कभी कभी मैं भगवान या परम सत्य के बारे में मेरे आध्यात्मिक संदेह स्पष्ट है. साइट या रहने वाले ऋषि मैं पूछताछ कर सकते हैं जो pl से?

    • Arya says

      @ Shabdika, बहन, इतनी सूची है कि वे यहाँ नहीं दिया जा सकता में कई हैं. मुस्लिम कट्टरपंथियों के हाथों में कई हत्या कर दी थी. पंडित (1897 में) Lekhram, स्वामी श्रद्धानन्द (1926 में), Mahashay राजपाल (1929 में), और बहुत ज्यादा है. उन के अलावा, वहाँ शहीदों को, जो निर्दयता Nijam राज्य के मुसलमानों ने हैदराबाद सत्याग्रह के दौरान मारे गए थे की पूरी सूची है. इस संबंध में अधिक पता है, कृपया अबोहर श्री राजेन्द्र Jijyasu पूछना. वह आर्य समाज और शहीदों के इतिहास पर एक अधिकार है. के बारे में Adhyatmik संदेह है, मैं सुझाव है कि आप Agniveer जी से संपर्क करने के लिए. वह कोई भी किसी भी विद्वान मुझे लगता है की तुलना में कम है!

  9. shabdika says

    why should India not send this 7000 years old,.the oldest universal prayer for peace in the world, to UNO ? Let UNO start its every session with it and end with it.
    About five years agoe Sh. Ashwani Dogra wrote a letter to UNO in this regard but to no effect. A few years agoe I was an invitee to Brahm Kumaris Centre at Mount Abu, there the chief person of a great institute of
    MAEER MIT's World Peace Centre,Alandi PUNE told me that he has also written to UNO about one universal prayer of great philosofer saint Shri Dnyaneshwara. There also I respectfully requested him that he should fight for the shanti path of vedes which he agreed.
    I think this try our govt should do.

  10. shabdika says

    भारत क्यों भेजते हैं, नहीं किया जाना चाहिए इस 7000 साल पुराने संयुक्त राष्ट्र संघ के लिए. दुनिया में सबसे पुराना शांति के लिए सार्वभौमिक प्रार्थना? संयुक्त राष्ट्र संघ के साथ अपनी हर सत्र प्रारंभ करने और इसके साथ अंत करते हैं. पांच साल के बारे में agoe श्री. अश्वनी डोगरा को इस संबंध में कोई प्रभाव नहीं है लेकिन संयुक्त राष्ट्र संघ को पत्र लिखा था. कुछ साल agoe मैं माउंट आबू में प्रजापति कुमारियां केंद्र को एक निमंत्रित किया गया था, वहाँ MAEER एमआईटी की विश्व शांति केंद्र के एक महान संस्थान के प्रमुख व्यक्ति, Alandi PUNE मुझे बताया कि वह भी एक के बारे में महान philosofer संत की सार्वभौमिक प्रार्थना संयुक्त राष्ट्र संघ लिखा है Dnyaneshwara श्री. वहाँ भी मैं सम्मान उसे अनुरोध किया है कि वह vedes जो वह सहमत का शांति पथ के लिए लड़ना चाहिए. मुझे लगता है कि यह हमारी सरकार का प्रयास करना चाहिए.

  11. says

    I will recite the original verse of YOUR VICTORY (Al Fatheha) that normally recited during each prayer. It is in A’rabaya the oldest language in the world and please look at it carefully as Sanskrit language is borrowing some of the words from this language.

    Ba Sama Allaha Al Rahamana Al Rahayama (1)

    Al Hamada Lalaha Raba Al A’lama yana (2)

    Al Rahamana Al Rahayama (3)

    Malaka Yawama Al Dayana (4)

    Ayaka Naabada Wa Ayaka Nasataa yana (5)

    Ahadanaa Al Sorotho Al Masataqoyama (6)

    Sorotho Al Zayana A’naamata Alaya Hama Ghoyaro
    Al Maghodowaba Alaya Hama Wa Laa Al Dhola yana (7)

  12. says

    मैं आपका (अल Fatheha) जीत है कि सामान्य रूप से प्रत्येक प्रार्थना के दौरान सुनाई की मूल कविता सुनाना होगा. यह A'rabaya में दुनिया में सबसे पुराना भाषा है और इसे देखो ध्यान से, कृपया के रूप में संस्कृत भाषा इस भाषा से शब्दों से कुछ उधार है. बा समा Allaha अल Rahamana अल Rahayama अल Hamada Lalaha Raba अल A'lama याना (2) अल Rahamana अल Rahayama (3) Malaka Yawama अल Dayana (4) Ayaka Naabada वा Ayaka Nasataa (5) याना Ahadanaa अल Sorotho अल Masataqoyama (1) (6) Sorotho अल Zayana A'naamata Alaya Hama Ghoyaro अल Maghodowaba Alaya Hama वा laa अल ढोला याना (7)

    • Indian Agnostic says

      एक हँस स्टॉक बनाने के बाहर है कि अरबी सुझाव द्वारा खुद के लिए @ mahadaya ➊ धन्यवाद दुनिया की सबसे पुरानी भाषा है और संस्कृत अरबी से ली गई है. प्रिय (शिक्षित लोगों मेरा मतलब है) मुसलमानों .. आप के लिए क्या किसी के दिमाग में होता है जब वह इसे का उपयोग बंद हो जाता है के रूप में @ mahadaya में एक उदाहरण है. इस 'शांति' एक धागा ➋ mahadaya पर और कुछ 'जीत' के साथ आता है कुछ धर्मों बदल वे .. कभी नहीं.

    • A human being says

      आप कृपया यह देखिए और स्वयं समझे कि संस्कृत ही अरबी आदि भाषाओ की माता है।

      http://hindurevolution.blogspot.com/2011/02/history-behind-arab-civilization.html

      संस्कृत की माता यदि कोई है तो वह ब्राहमी है – लेकिन अरबी तो हो नही सकती।

  13. Linux says

    Title should be written as शान्ति not शांति. This “शांति” is hindi, “शान्ति” is Sanskrit.

    • आर्यव्रतस्थ says

      @Linux you are right coz न falls in the category of त,थ,द,ध any sandhi leadin to an anuswar and followed by any of the mentioned alpahabet will use a ardha न

Trackbacks

Please read "Comment Policy" and read or post only if you completely agree with it. Comments above 2000 characters will be moderated. You can share your views here and selected ones will be replied directly by founder Sri Sanjeev Agniveer.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 characters available

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>