दुनिया और मैं

दुनिया-और-मैं

 

 

 

 

 

दुनिया को प्यार करना

है खुद को प्यार करना

हो चोट गैर पर तो
दिल मेरा भी दुखाना

हर होंठ पे हंसी हो
लब मेरे खिलखिलाना

कमजोर बाजुओं की
ताकत मुझे बनाना

नीलाम हो जो इज्जत
आँचल मुझे बनाना

भगवान दुनिया तेरी
मेरी इसे बनाना

इसका मुझे बनाना
मेरी इसे बनाना…

The 4 Vedas Complete (English)

The 4 Vedas Complete (English)

Buy Now
Print Friendly

More from Agniveer

  • भाई तू क्यों नहीं आया?भाई तू क्यों नहीं आया? उसने भाई को पुकारा होगा. पर कोई नहीं आया. समाज में दुशासन तो सब हैं, कृष्ण कौन बनेगा? […]
  • ध्वजा ओम की!ध्वजा ओम की! पूरे संसार को श्रेष्ठ बनाने का संकल्प. व्यर्थ के जाति बंधन तोड़ कर मानव मात्र को एक करने का संकल्प. महान कवि और दार्शनिक पंडित चमूपति की अमर […]
  • बचपन और जवानी बचपन और जवानी जवानी आयी और बचपन विदा हो गया! पर जाते जाते बचपन कुछ कह गया! बचपन की जवानी को सीख, इस कविता […]
  • शांति पाठशांति पाठ Simple and touching poetic rendition of Shanti Path in Hindi.
  • फूल नहीं धधकता अंगार हूँफूल नहीं धधकता अंगार हूँ फूल नहीं धधकता अंगार हूँ मैं। थके स्वाभिमान को झकझोरती ललकार हूँ मैं।
  • धधक धधक हे सत्य की अग्निधधक धधक हे सत्य की अग्नि An inspiring poem from Aryaveer Vaidik to arouse the Agniveers into nation-building!

Comments

Please read "Comment Policy" and read or post only if you completely agree with it. You can share your views here and selected ones will be replied directly by founder Sri Sanjeev Agniveer.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 characters available

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>