Home Authors Posts by Agniveer

Agniveer

16 POSTS 1 COMMENTS
Agniveer aims to establish a culture of enlightened living that aims to maximize bliss for maximum. To achieve this, Agniveer believes in certain principles: 1. Entire humanity is one single family irrespective of religion, region, caste, gender or any other artificial discriminant. 2. All our actions must be conducted with utmost responsibility towards the world. 3. Human beings are not chemical reactions that will extinguish one day. More than wealth, they need respect, dignity and justice. 4. One must constantly strive to strengthen the good and decimate the bad. 5. Principles and values far exceed any other wealth in world 6. Love all, hate none

On Hindu Ekta, & Sanctity of Temple Customs & Rituals

Regarding Agniveer Hindu Ekta Yajna initiative, which involves - Vedas for all, Janeu for all; for eradicating root of birth based casteism in society.

Soldier is My Name [Poem]

Poem revealing direct message of a soldier's heart, to his fellow sons and daughters of Motherland.

बिछुड़े भाइयों – हिन्दुस्तानी मुसलमानों से

This poem melted the hearts of numerous Muslim Brothers and Sisters The poem which made them recite Gayatri Mantra with the author, on email chats and phone ,at the end of conversations!

बलिदान

हजारों आवाजें एक साथ उठ रही थीं- अपना धर्म छोड़ दे। पर शेर अकम्प खड़ा था। माता की आँख में आंसू थे। उसने माँ के आंसू पोंछे। जल्लाद के आगे सर तान लिया, अगले ही पल वो पावन सर मातृभूमि की गोद में था। बालक मर चुका था पर धर्म जी उठा था। ये था हकीकत राय का अमर बलिदान।

Soldier

Terrorists captured a soldier once, tortured him to death. They told him that terrorists are real brave as they don't fear death. Soldier replied in few lines before dying. Here is what he said...

फिल्म हैदर- एक फौजी की नजर में

फिल्म हैदर एक फौजी के नजरिये से! जिसने कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ते हुए अपना हाथ खोया और कई दोस्त खोये। पर फिर भी देश के लिए प्यार और जज्बा नहीं खोया।

मादर ए वतन

महाराणा प्रताप जयंती पर अग्निवीर की तुच्छ भेंट. हिन्दुस्तान के हजार साल के स्वतंत्रता संग्राम के कुछ न मिटाए जा सकने वाले पन्ने इस छोटी सी कविता में. पढ़ें और प्रचार करें!

माँ

मेरी भी नहीं तेरी भी नहीं वो तो होती सबकी सांझी माँ ना हिंदू की ना मुस्लिम की माँ तो बस एक होती है माँ

दुनिया और मैं

एक बच्चे की मासूम प्रार्थना! एक योगी की साधना यही प्रार्थना है!

बचपन और जवानी

जवानी आयी और बचपन विदा हो गया! पर जाते जाते बचपन कुछ कह गया! बचपन की जवानी को सीख, इस कविता में.
- Advertisement -

MOST POPULAR

>

Pin It on Pinterest