आर्य! उठ फिर भाग्य की उगती उषा के रंग हैं
एक कौतुक है कि जिस से देव दानव दंग हैं II

शीश पर तेरे सजाने को सुनहरा ताज है
हो रहे अभिषेक के तेरे सजीले साज हैं II

दिग्विजय का गीत गाने को दिशाएं हैं अधीर
कीर्ति का कालख उड़ाने को हवाएं हैं अधीर II

सभ्यता डायन बनी है, राज्य है रावण बना
क्रूर कौतुक है कि कृष्णा-कान्त दुशासन बना II

क्लीव क्यों अर्जुन! खड़ा है? घोर रणचंडी जगा
शत्रु दल के दिल हिलें, टंकार कर गांडीव का II

क्रूरता पर कंस की फिर कृष्ण बन कर वार कर
शीश रावण का उड़ा, बेड़ा सिया का पार कर II

आज क्यों लंका अधिक प्यारी सिया से है तुझे?
देखता क्या है? पवन सुत! पाप का गढ़ फूँक दे II

राम बनना है तुझे, घर से निकल वनवास ले
ले! अभी लंका विजय होती तुझे है रास ले II

है डरा जाता वृथा क्यों? सिंह के सर पर दहाड़
बाघ की मूछें पकड़, दुष्यंत सुत! हिंसक पछाड़ II

गर्ज से तेरी हृदय संसार के जाएँ दहल
प्रेम की तानें उड़ा, पाषाण तक जाएँ पिघल II

गर्ज से गंभीर सागर की उमड़ती ठाठ हो
प्रेम का फिर से झकोरों में पवन के पाठ हो II

– पंडित चमूपति

अग्निसंकल्प

राष्ट्रभक्ति और धर्मरक्षा के लिए प्रेरित करती कविताओं का संग्रह

More info →

Facebook Comments

Liked the post? Make a contribution and help revive Dharma.

Disclaimer:  We believe in "Vasudhaiv Kutumbakam" (entire humanity is my own family). "Love all, hate none" is one of our slogans. Striving for world peace is one of our objectives. For us, entire humanity is one single family without any artificial discrimination on basis of caste, gender, region and religion. By Quran and Hadiths, we do not refer to their original meanings. We only refer to interpretations made by fanatics and terrorists to justify their kill and rape. We highly respect the original Quran, Hadiths and their creators. We also respect Muslim heroes like APJ Abdul Kalam who are our role models. Our fight is against those who misinterpret them and malign Islam by associating it with terrorism. For example, Mughals, ISIS, Al Qaeda, and every other person who justifies sex-slavery, rape of daughter-in-law and other heinous acts. Please read Full Disclaimer.
Previous articleRakshas in Vedas and Hinduism
Next articleVedas and Dignity of Labor
Agniveer symbolizes the efforts of a soul marching towards the ultimate goal through destruction of ego and falsehood. With focus only on right knowledge, right actions and right devotion. In other words, Agniveer stands for compassion, character, tolerance and rational humanism. Agniveer believes in One World, One Humanity, One Family.
  • Namaste

    How does Agniveer review Amish Tripathi’s Shiva Trilogy and Raama series, given that books have an extremely rational outlook towards life topics, portrays honour and justice as way of life, but at the same supports history of meat eating by our role models?

  • आर्यों को सन्देश: आर्य! उठ फिर भाग्य की उगती उषा के रंग हैं एक कौतुक है कि जिस से देव दानव दंग… http://goo.gl/fb/hwyf