जाकिर भाई एम बी बी एस जो डॉ जाकिर नाइक के नाम से भी जाने जाते हैं, आज की तारीख में सबसे ज्यादा लानत पाने वाले शख्स हैं. यह लानत उन पर कोई और मजहब के लोग नहीं लेकिन खुद उनके मजहब इस्लाम के मानने वाले ही भेजते हैं. दुनिया के नामी और हिन्दुस्तान, पाकिस्तान में सबसे बड़े तालीमी इदारे (शैक्षिक संस्थान) दारुल उलूम देवबंद ने कुछ अरसा पहले जाकिर भाई के खिलाफ फतवा लगाया है. इसमें कोई शक नहीं कि जाकिर भाई पिछले कुछ साल में मजहबी बाजार में सबसे ज्यादा कीमत पाने वालों में से एक हैं. वे खुद को इस्लाम का खिदमतगार (सेवक) बताते हैं और दावा करते हैं कि वे नए लोगों तक इस्लाम को पहुंचाते हैं. खुद को अल्लाह और मुहम्मद का अदना खिदमतगार कहते हैं. खुद को इस्लाम और दीगर मजाहिब (दूसरे धर्मों) का आलिम (विद्वान) भी कहते हैं! पर फिर भी उन पर सबसे ज्यादा लानत भेजने वाले और नफरत करने वाले मुसलमान ही हैं. इस लेख में हम उन वजूहात (कारणों) की तहकीक करेंगे कि जिससे जाकिर भाई मुसलमान भाइयों की नजरों में पहले शख्स हैं जो जहन्नम में भेजे जायेंगे! अधिक जानने के लिए गूगल पर “we hate zakir naik” डालें और देखें.

यहाँ हमारे पढने वालों के लिए इस्लाम का थोड़ा राफ्ता (परिचय) कराना जरूरी है. अधिकतर लोग यह समझते हैं कि इस्लाम वह मजहब है जो कि मुहम्मद (सल्लo) ने फैलाया और जो कुरान में लिखा है. कुरान कहती है कि जो आदमी मुहम्मद (सल्लo) के कहे पर ईमान लाएगा वह जन्नत में जाएगा जहां उसे बहुत सी जवान लड़कियां (जिनके हुस्न और बदन की खूबियाँ हदीसों और दूसरी इस्लाम की पाक किताबों में मिलती हैं, मसलन उनका जिस्म शीशे की तरह आरपार दिखाई देने वाला, आँखें मोटी, छाती…. वगैरह वगैरह), बहुत से मोतियों के मानिंद लड़के जो जन्नत में शराब के प्याले लिए अपने मालिक की शान में सदा फिरते रहेंगे, शराब के दरया और पंछियों का गोश्त और भी बहुत कुछ. कुरान पर अमल करने की बात वैसे तो देखने में सीधी लगती है पर यह इतनी सीधी है नहीं. ऐसा इसलिए कि केवल यह कह देने से कि कुरान पर अमल करो, काम नहीं चलता. हर आलिम अपने तरीके से कुरान के मतलब निकालता है और यही वजह है कि कुरान एक मानने पर भी मुसलमानों में आज बहत्तर (७२) से भी ज्यादे फिरके (वर्ग) हैं. हरेक फिरका खुद को असली इस्लाम और दूसरों को दोजखी (नरकगामी) करार देता है. पैगम्बर मुहम्मद (सल्लo) की कुछ हदीस हैं जो अबू दाउद और तिरमिधि में मिलती हैं जो इस तरह है-

“अबू दाउद, किताब 40, हदीस 4579: नबी ने फरमाया कि यहूदी इकहत्तर या बहत्तर (७१ या ७२) फिरकों में बंट गए. ईसाई भी बहत्तर फिरकों में बंटे. मेरी उम्मत तिहत्तर (७३) फिरकों में बंटेगी. “

“तिहत्तर फिरकों में से केवल एक फिरका ही सच्चा है जो जन्नत में जाएगा, बाकी सब जहन्नम की आग में जलाए जायेंगे.” [तिरमिधि और अबू दाऊद]

तो मसला अब यह है कि मुहम्मद (सल्लo) की बात झूठी नहीं हो सकती और इसलिए इस्लाम में मौजूद आज तिहत्तर फिरकों में से बहत्तर तो काफिरों के साथ ही दोजख की आग में जलेंगे. तो यही वजह है कि इस्लाम के फिरके सुन्नी, शिया, वहाबी, सूफी, कादियानी और इसी तरह न जाने कितने ही फिरके अपने को सच्चा और बाकी ७२ को झूठा साबित करने मिल लगे रहते हैं. हालांकि कुछ फिरके काफिरों पर भी गम खाने वाले हैं और उन्हें भी जन्नत नसीब होने की ख्वाहिश करते हैं लेकिन ये बहुत थोड़े हैं. अधिकतर तो वे ही हैं जो काफिरों को अल्लाह और रसूल का दुश्मन समझ कर उन पर लानत भेजते हैं. वे केवल ऐसा कहते नहीं, लेकिन बमबारी करके जताते भी हैं. काफिर को तो छोड़ें, आज मुस्लिम दुनिया में अधिकतर जगहों पर जबरदस्त फिरकापरस्ती (सम्प्रदायवाद) है जैसे कि पाकिस्तान में आये दिन कभी कादियानियों की मस्जिद उड़ा दी जाती है तो कभी शिया नमाजियों को सरे आम भून दिया जाता है.

पर देखिये! फिरकों में बंटी और लगातार बंटती जा रही मुस्लिम उम्मत के इस हाल पर भी जाकिर भाई इस्लाम को “सबसे तेज फैलता हुआ मजहब” (fastest growing religion) करार देते हैं! वैसे उन्होंने आजतक यह नहीं बताया कि वह सच्चा फिरका कौन सा है जिसकी तरफ मुहम्मद (सल्लo) का इशारा था. खैर, इस्लाम में फिरकापरस्ती हमारे इस लेख का मौजू (विषय) नहीं. इस्लाम के ७३ फिरकों में सबसे इन्तेहापसंद (अतिवादी) और दहशतगर्द (आतंकवादी) फिरका वहाबी है.यह फिरका अपने वजूद में आने से (अट्ठारहवीं सदी) लेकर आज तक बड़े बड़े दहशतगर्दों जैसे ओसामा बिन लादेन, अल कायदा को पैदा करने के लिए जाना जाता है. इस्लाम के असली मायने “शांति=अमन” का अगर किसी फिरके ने सबसे ज्यादा मजाक बनाया है तो यह वहाबी ही है. जाकिर भाई का ताल्लुक इस फिरके से ही बताया जाता है. लेकिन यहीं पर बस नहीं है! जाकिर भाई वहाबी रिवायतों में कभी कभी ऐसे फिरकों की रिवायतों के तड़के भी लगा दिया करते हैं कि हांडी लजीज होने के बजाये कड़वी हो जाती है! अपनी इस नयी हांडी का नाम वे इस्लाम रखते हैं लेकिन असल में उनके इस खेल ने इस्लाम की धज्जियां उड़ा के रख दी हैं. और इस वजह से अब इस्लाम के सब बड़े बड़े फिरके उन पर फतवे दे चुके हैं. दारुल उलूम देवबंद, शिया, कादियानी सब के सब कह चुके हैं कि जाकिर नाइक को इस्लाम का दावा करने का हक़ ही नहीं है. यह सब कैसे हुआ, एक एक करके देखते हैं कि कैसे जाकिर भाई ने बड़ी चालाकी से अपने नाम के लिए इस्लाम का मजाक उड़ाया यहाँ तक कि पैगम्बर मुहम्मद (सल्लo) की सारी दुनिया में हंसी उडवाई.

१. जाकिर भाई एक कादियानी?

जाकिर भाई का दावा है कि वे इस्लाम और दीगर मजाहिब के आलिम हैं. अपनी वेबसाइट पर उन्होंने बहुत से लेख अपने नाम से इस्लाम और दुसरे मजहबों पर दे रखे हैं. पर असल में उन्होंने बहुत से लेख कादियानी/अहमदी किताबों से चुराए हैं. अब देखें कि इस बात ने पूरी मुस्लिम उम्मत को क्यों उनके खिलाफ कर दिया है-

– कादियानी/अहमदी बाकी सब इस्लाम के फिरकों के हिसाब से गैर मुस्लिम समझे जाते हैं क्योंकि इस फिरके को वजूद में लाने वाला शख्स मिर्ज़ा गुलाम अहमद खुद को नबी बताता था जबकि कुरान कहती है कि आखिरी नबी मुहम्मद (सल्लo) हैं.

– वहाबी फिरका अहमदियों का सबसे बड़ा दुश्मन है. यहाँ तक कि अधिकतर जगहों पर अहमदियों को संगसार (पत्थर मार मार कर मार डालने की सजा) करने में वहाबियों का नाम अक्सर सामने आता है.

– कादियानियों की किताब से जाकिर भाई ने जो बातें चुराई हैं और उन्हें अपने नाम से छापा है, वे बात असली इस्लाम से बिलकुल उलट हैं और यहाँ तक कि शिर्क तक भी जाती हैं. जैसे मुहम्मद (सल्लo) कल्कि अवतार थे. हिन्दुओं की जिस किताब “भविष्य पुराण” में कल्कि अवतार की जिक्र है वहां कहा गया है कि अल्लाह/भगवान खुद जमीन पर उतर कर इंसान की शक्ल में आएगा. कादियानी मौलाना ने इतना भी नहीं सोचा कि अल्लाह का इंसान बनकर जमीन पर उतरना उसकी शान में कितनी बड़ी गुस्ताखी है. लेकिन इससे बड़ी गुस्ताखी तो जाकिर भाई ने कर दी जिन्होंने हूबहू इस कादियानी मौलवी की किताब से कल्कि अवतार वाली बात चुराकर इस्लाम बताकर पेश कर दिया! जाकिर भाई बताएं कि इस्लाम के तहत क्या अल्लाह कभी इंसान बनकर जमीन पर आ सकता है? अगर नहीं तो कल्कि अवतार मुहम्मद (सल्लo) कैसे हो सकता है?

– भविष्य पुराण में लिखे जिस महामद नाम के आदमी को जाकिर भाई अपने कादियानी उस्ताद के इल्म की रोशनी में मुहम्मद (सल्लo) बता रहे हैं, दरअसल पुराण में उसको पिछले जन्म का भूत, राक्षस, धूर्त यानी शैतान की तरह नामुराद बताया गया है जिसे  हिन्दुओं के भगवान शिव ने पीट पीट कर मार डाला था. (कैसे और भी बुरी तरह जाकिर भाई ने मुहम्मद साहब कि मजाक उड़ाई है, इस बारे में तफसील से जानने के लिए पढ़ें http://agniveer.com/479/prophet-puran/). इससे दो बातें साबित हो जाती हैं कि एक तो जाकिर भाई तनासुख (पुनर्जन्म) में यकीन करते हैं और दूसरा वो मुहम्मद (सल्लo) को पिछले जन्म का भूत, शैतान और बदमाश मानते हैं. इस सब के बाद भी क्या कोई सच्चा मुसलमान जाकिर भाई से मुहब्बत कर सकता है?

– जाकिर भाई कहते हैं कि वेदों में मुहम्मद (सल्लo) के आने की भविष्यवाणी है. यह बात भी उन्होंने क़दियानियों की किताब से हूबहू चुरा ली. इस दावे की पड़ताल यहाँ देखें. http://agniveer.com/hi/2932/muhammad-vedas-hi/. अब जब वेद की भविष्यवाणियों को जाकिर भाई कादियानियों की तरह ठीक मानते हैं तो वे खुद बाकी इस्लाम की मुखालफत करते हैं क्योंकि इस्लाम का और कोई फिरका वेदों को अल्लाह का कलाम नहीं मानता. मजेदार बात यह है कि अपने एक लेख में वेदों की भविष्यवाणियों पर यकीन करने वाले जाकिर भाई अपने दूसरे लेख में कहते हैं कि उन्हें पता नहीं कि वेद अल्लाह का कलाम हैं कि नहीं! अब सवाल उठता है कि अगर आपको यह पता नहीं है तो फिर वेद की भविष्यवाणियों पर आपने कैसे यकीन कर लिया?

इस सबसे साबित होता है कि जाकिर भाई का इस्लाम कुरान और हदीसों पर खड़ा न होकर कादियानी किताबों पर खड़ा है. लेकिन वे खुद को सच्चा मुसलमान कहते हैं और कादियानियों को बुरा भी कहते हैं क्योंकि इन्हें पैसे और साजो सामान तो वहाबी ही मुहैय्या कराते हैं! लगता ऐसा है कि जाकिर भाई वहाबी मुखौटे में एक कादियानी ही हैं और इसी लिए कादियानी बातों को फैलाने में वो इस कदर दीवाने हैं कि उन्हें इसके लिए शिर्क करने से भी गुरेज नहीं और न ही मुहम्मद (सल्लo) की बेइज्जती करने से.

२. यजीद के सदके- जाकिर भाई का यजीद प्रेम

पूरी मुस्लिम उम्मत के लिए एक ग़मगीन दिन, जब यजीद ने मुहम्मद (सल्लo) के पोते हुसैन को धोखे से कर्बला में घेर कर प्यासा मार डाला. जो यजीद अधिकतर तारीखदान की नजरों में शराबी, बच्चों से बुरा काम करने वाला, और कुत्ते पालने वाला था, इस तरह की इस्लाम में हराम हरकतें करने वाला था उस यजीद को जाकिर भाई ठीक समझते हैं. जिस यजीद के राज में पाक मक्का और मदीना शहरों की बेइज्जती की गयी और वे तबाहो बर्बाद कर दिए गए, उस यजीद को जाकिर भाई बुरा नहीं समझते! सवाल पैदा होता है की अगर यजीद नेक इंसान था तो फिर ऐसी नेकी तो काफिर भी करते हैं!

Why-Muslims-hate-Zakir-Naik-so-much

३. जाकिर भाई और हलाल गोश्त

जाकिर भाई एम बी बी एस गोश्त खाने को सही ठहराते हैं. वे यह तो तस्लीम करते हैं की कोई मुसलमान बिना गोश्त भी मुसलमान रह सकता है लेकिन वे हलाल गोश्त खाने के पीछे यह मन्तक देते हैं

१. पेड़ पौधे भी काटने पर रोते हैं जैसे जानवर. इस बात में वे किसी मुल्क के एक किसान के किये हुए एक नुस्खे का हवाला देते हैं! उनका कहना है कि इस किसान ने वो मशीन बनायी है जिससे पेड़ की रोने की आवाज सुनाई देती है!

२. जानवर को हलाल करते वक़्त सबसे कम दर्द होता है! क्योंकि हलाल करने में उसकी गले की नस पहले फाड़ी जाती है जो खून को दिमाग तक ले जाती है और थोड़ी ही देर में वो बेहोश हो जाता है!

३. इस्लाम में केवल वही जानवर खाए जाते हैं जो गोश्त नहीं खाते. क्योंकि इस्लाम मानता है कि जैसा खाना होगा वैसा ही दिमाग. अगर चीर फाड़ करने वाले जानवरों का गोश्त खाया जाए तो दिमाग वैसा ही चीर फाड़ करने वाला होगा. इसलिए मुसलमान केवल अमनपसंद जानवरों का ही गोश्त खाते हैं ताकि वो भी अमन पसंद रहें!

आज के पढ़े लिखे बहुत से तरक्कीकार मुसलमान इन सब घटिया मन्तकों पर आंसू बहाते हैं जो पूरी दुनिया में इस्लाम की एक मजाक बना रहे हैं. वो पूछते हैं कि अगर किसान मशीन बना रहा था तो सब साइंसदान और दानिशवर उसके खेत में मूली उगा रहे होंगे! और उस किसान का नाम पता क्या है? यह रोने की आवाज कभी टेलीविजन पर क्यों नहीं किसी ने सुनी? क्या मीडिया को इस किसान का पता नहीं है? इसी तरह अगर गले की नस फाड़ने से जानवर को दर्द नहीं होता तो एक दम झटके से जानवर को जिबा करने से भी तो गले की नस फटेगी ही और हलाल के बनिस्पत और भी तेज कटेगी फिर भी झटका में दर्द कम होगा! इसी तरह अगर अमनपसंद जानवर को खाकर कोई अमनपसंद ही रहता है तो दरिन्दे मांसखोर जानवर जैसे शेर चीते वगैरह भी तो अमनपसंद जानवरों को ही मारते हैं, फिर वो अमनपसंद क्यों नहीं बने रहते? इस तरह पढ़े लिखे मुसलमान अब गोश्त से दूर हो रहे हैं और इसी के नतीजे में आज की तारीख में गोश्त के खिलाफ लामबंद होने वाले सबसे बड़ी जमातों में एक इस्लाम वेज डोट कॉम है जिसमें हजारों मुसलमान जी जान से लगे हैं. इन्होने जाकिर नाइक को अपनी बेवकूफी से इस्लाम को बदनाम करने के लिए जम कर लताड़ लगाई है. आप इसे यहाँ पर देख सकते हैं  http://www.islamveg.com/halalmeat.asp

४. जाकिर भाई ओसामा बिन लादेन के लिए!

जाकिर भाई ओसामा बिन लादेन के बड़े हमदर्द हैं. किसी ने उनसे पूछा कि वे ओसामा के बारे में क्या सोचते हैं तो उन्होंने कहा- “अगर ओसामा ने सबसे बड़े दहशतगर्द अमेरिका को खौफजदा किया है तो में उसके साथ हूँ”. आगे कहते हैं कि असल में क्या हुआ वह उनको नहीं पता! कोई जाकिर भाई से पूछे कि अगर असल में कुछ पता ही नहीं था तो अमेरिका को दहशतगर्द क्यों कहा? और अगर कहना था तो फिर यह भी कहते कि अगर ओसामा असलियत में दहशतगर्द है तो मैं उसके खिलाफ हूँ! ऐसा तो कुछ जाकिर भाई ने नहीं कहा. फिर वो विडियो जिनमें ओसामा बिन लादेन ने खुलेआम भारत, अमेरिका, ब्रिटेन, इसराइल वगैरह को धमकी दी थीं और वो इस्लामी चैनल अल जजीरा पर ही आयीं थीं उनके बारे में जाकिर भाई क्यों भूले? चलो अमेरिका तो दहशतगर्द ठहरा सो ठहरा, भारत (जो कि जाकिर भाई का अपना मुल्क है) को धमकाने वाले के खिलाफ जाकिर भाई कुछ क्यों नहीं बोले? इस वजह से भी बहुत से वतनपरस्त मुसलमान उनसे नाराज हैं. देवबंद ने इस बात पर जाकिर भाई के खिलाफ फतवा भी जारी किया जिसे आप यहाँ पढ़ सकते हैं-http://sunninews.wordpress.com/2008/05/10/deobandi-fatwa-against-zakir-naikalso-denying-fatawa-against-cow-slaughter/
साफ़ है कि जाकिर भाई के दिल में ओसामा के लिए हमदर्दी इसीलिए है कि जाकिर भाई और ओसामा के हमदर्द एक ही हैं और वे ही दोनों को इस्लाम फैलाने के लिए चन्दा देते हैं. ओसामा बम फोड़कर काम करता है और जाकिर भाई उसके हमदर्द बनकर!

५. जाकिर भाई जेंटलमेन

जाकिर भाई ऊपर से दिखाते हैं कि वे सुन्नत (मुहम्मद सल्लo की आदतें और रहन सहन के तौर तरीके) का बड़ा ख्याल करते हैं लेकिन असल में वे हमेशा गैर इस्लामी लिबास पहनते हैं. हदीसों में आया है कि जो भी मुसलमान काफिरों से लिबास पहनता है, आखिरत के दिन गैर मुस्लिमों का सा सुलूक पायेगा. इसलिए सुन्नत में यकीन करने वाले सब मोमिन जाकिर भाई पर इस बात के लिए लानत भेजते हैं कि वो काफिरों जैसे पैंट, शर्ट, कोट, टाई वगैरह पहनकर गलत मिसाल पेश कर रहे हैं. उन्हें शायद लगता है कि यह पहनकर वे जेंटलमेन कहलाये जायेंगे लेकिन इस्लाम में यह जायज नहीं है.

६. मजार पर मन्नत माँगना गैर इस्लामी- जाकिर भाई

वहाबियों ने बहुत से सूफी दरगाहों और यहाँ तक कि मुहम्मद (सल्लo) की मजार भी जमीन में मिला दी क्योंकि उनकी नजर में यह शिर्क है. मजारें और दरगाह तोड़ने की अपनी इस तहरीक में उन्होंने बहुत से मर्दों, औरतों और बच्चों को जिबा किया. अकेले कर्बला में सन १८०२ में घरों और बाजारों में घुसकर अधिकतर लोगों को मार डाला. जाकिर भाई भी मन्नत मांगने को शिर्क कहते हैं और इसको गैर इस्लामी करार देते हैं. इस वजह से मन्नत मांगने वाले मुसलमान और सूफी सोच के लोग उनसे नफरत करते हैं.

अब ज़रा नजर डालें मुल्क के बड़े बड़े उलेमाओं पर कि जिन्होंने जाकिर भाई के खिलाफ फतवे देकर यहाँ तक कह दिया है कि उनकी तकरीरें गुमराह करने वाली हैं और वे हराम हैं और जो कोई भी उन्हें सुनकर अमल करेगा वो भी हराम होगा. नीचे देखें-

अब नीचे कुछ और वजह लिखते हैं कि जिनसे मुसलमान जाकिर भाई से नफरत करते हैं-

७. जाकिर भाई मुहम्मद सल्लo के पोते इमाम हुसैन के कातिल यजीद की बड़ाई करते अक्सर सुने जाते हैं. इस वजह से शिया और सुन्नी भी उनसे नफरत करते हैं.

८. जाकिर भाई के हिसाब से किसी इस्लामी मुल्क में कोई गैर इस्लामी शख्स अपने मजहब को न तो फैला सकता है और न ही खुले तरीके से इजहार कर सकता है. वहीँ दिलचस्प बात ये है कि जाकिर भाई इस्लाम को दूसरे गैर इस्लामी मुल्कों में फैलाने की पूरी छूट मांगते हैं! उनका मन्तक है कि दीन के मामलों में मुसलमान ही सबसे ऊंचे हैं इसलिए उन्हें सब जगह छूट होनी चाहिए! मगर गैर इस्लामी मजहबों को अपने इबादतघर बनाने की भी छूट नहीं होनी चाहिए क्योंकि उनका मजहब इस्लाम के आगे छोटा है.

इस तरह का दिमागी दीवालियापन उन पढ़े लिखे मुसलमानों को अखरता है जो पूरी दुनिया के कंधे से कन्धा मिलाकर काम करना चाहते हैं और किसी आदमी को उसके मजहब की वजह से छोटा या बड़ा नहीं समझना चाहते. यह उन अच्छे मुसलमानों की कोशिशों पर झटका है जो समझते हैं कि अच्छे काम करने वाले इंसान चाहे किसी मजहब से तालुक रखने वाले हों, वे जन्नत में ही जायेंगे.

९. आखिर में वह बात जो तकरीबन आधी मुस्लिम आबादी के जाकिर नाइक से नफरत करने की वजह है, वो है उनका औरतों के लिए रवैय्या. उनका कहना है कि औरतों को सदा हिजाब और बुरका पहनना चाहिए. जाकिर भाई एम बी बी एस के ही साथी डॉक्टर यह मानते हैं कि इस तरह के रिवाज औरतों में विटामिन डी की कमी की वजह बनते हैं. बहुत से समझदार मुसलमान बन्धु भी इस पाबंदी को इंसानियत के खिलाफ मानते हैं.

जाकिर भाई का मानना है कि औरतों को दफ्तरों में काम नहीं करना चाहिए क्योंकि वहां पर मुमकिन है कि उन्हें गैर मर्दों के साथ अकेले में मिलना पड़े. जाकिर नाइक के मुताबिक़ केवल वही मर्द किसी औरत के साथ अकेले रह सकता है जो या तो उसका शौहर हो या जिसने उसकी छाती का दूध पिया हुआ हो. जाकिर भाई की इस समझ (?) पर अमल होना भी शुरू हो गया है! अभी कुछ दिन पहले एक जानी मानी इस्लामी यूनिवर्सिटी ने फतवा दिया है कि मुस्लिम औरतों को दफ्तर के अपने मर्द साथियों को पांच बार दूध पिलाना होगा, तब जाकर वे अकेले में भी उसके साथ काम कर सकते हैं! अंदाजा लगाएं कि इस घटिया सोच पर सिर्फ औरत ही क्यों हर दिमागदार आदमी का सर भी शर्म से झुक जाता है.

जाकिर भाई की नजरों में मर्द का एक से ज्यादा बीवियां रखना जायज है लेकिन इसका उल्टा उन्हें क़ुबूल नहीं. कहते हैं कि दुनिया में औरतें मर्दों से ज्यादा हैं इसलिए ज्यादा बीवियां राखी जा सकती हैं! हमने पूरी दुनिया की आबादी बताने वाले जितने आंकड़े देखे, उनमें किसी में भी औरतों की आबादी मर्दों से ज्यादा नहीं थी. हाँ मर्दों की थोड़ी सी ज्यादा जरूर थी! पर झूठे आंकड़े देकर गलत बात को ठीक करने की धुन जाकिर भाई पर कुछ ज्यादा ही सवार है. वे यह नहीं बताते कि सब मुस्लिम मुल्कों में मर्द ही औरतों से ज्यादा हैं तो फिर वहां उलटा रिवाज क्यों न चलाया जाए?

जाकिर भाई यह यकीन करते हैं कि औरतों का दिमाग मर्दों से कमजोर होता है और इसलिए दो औरतों की गवाही एक मर्द के बराबर होती है. यही नहीं उनका मानना है कि दोजख में जलने वाले ज्यादातर औरतें ही होंगी क्योंकि वे आदमियों के दिमाग फेर देती हैं और धोखेबाज होती हैं!

जाकिर भाई का यकीन है कि अगर किसी औरत के साथ कोई दरिंदा जबरदस्ती करता है और उसकी इज्जत लूटता है तो यह साबित करने के लिए उसे कई चश्मदीद गवाह लाने होंगे जिन्होंने असलियत में …..ते हुए देखा हो.

अब कहाँ तक लिखें, जाकिर भाई को ये सब मानते और कहते शर्म नहीं आती लेकिन हमारे अन्दर उनके जैसा हौंसला नहीं. उनका हौंसला सब हदें पार कर गया है, यहाँ तक कि खुद वहाबियों ने भी अब उन्हें शैतान कहना शुरू कर दिया है. यहाँ पर देखें http://www.scribd.com/doc/21622373/Zakir-Naik-Exposed-by-Wahabis-and-salaifs-ahle-hadeth-scholars

कैसे जाकिर भाई ने मुहम्मद (सल्लo) की बेइज्जती की इसका सबूत यह है

सच्चाई की खोज के लिए जरूरी है हम झूठ को छोड़ते जाएँ. यह मुमकिन है कि इस बात पर बहस हो कि ७२ में से वो एक कौन सा फिरका है  जो जन्नत में जाएगा. यह भी मुमकिन है कि इस पर बहस हो कि क्या सदा रहने वाले दोजख और जन्नत का वजूद है या नहीं और फ़रिश्ते और जिन्न हैं भी या नहीं. इस पर भी बहस हो सकती है कि क्या मुहम्मद (सल्लo) और भी कई बड़े लोगों की तरह हमें राह दिखाने वाले थे या फिर अल्लाह के पैगम्बर थे. इस पर भी बात हो सकती है कि क्या अल्लाह की भी पहली, दूसरी… और आखिरी किताब होनी चाहिए? क्या एक ही किताब पूरी नहीं? इस पर भी सवाल उठाये जा सकते हैं कि क्या वाकई कुरान आखिरी किताब है या इसमें ऐसा क्या है जो उससे पहले से मौजूद वेदों में नहीं था.

मगर एक बात तो साफ़ है जिसमें बहस की कोई गुंजाइश नहीं और वह ये कि कुछ लोग तो एकदम दोजख में फेंक दिए जाने के काबिल हैं ताकि इंसानियत तबाह न हो सके. ये कुछ लोग वो हैं जो

– ओसामा जैसे दहशतगर्दों को गलत कहना तो दूर उनसे हमदर्दी रखते हैं

– जो यह समझते हैं कि केवल उनका फिरका जन्नत में जाएगा और बाकी सब के सब दोजख की आग में जलेंगे भले ही उन्होंने कितने ही नेक काम क्यों न किये हों

– जो दूसरे मजहबों को अपने यहाँ देख भी नहीं सकते लेकिन दूसरों के यहाँ खुद का मजहब फैलाना चाहते हैं

– जो औरतों को बेवकूफ समझते हैं और उन्हें बक्से में बंद करना चाहते हैं

– जो सबूत पेश करने पर भी सच्चाई को नहीं कुबूलते

– जो किसी और के किये काम को अपना बता कर वाहवाही लूटते हैं और जिससे चोरी करते हैं उन्ही को कोसते हैं

ऐसे दहशतगर्दों के हमदर्द इंसानियत के लिए दहशतगर्दों से भी ज्यादा खतरनाक हैं. सब तरक्कीपसंद और कट्टर मुसलमानों ने भी जाकिर नाइक की कड़ी मुखालफत करके एक सही कदम उठाया है. इंसानों का सबसे बड़ा मजहब है इंसानियत और वह है- जो बर्ताव आप अपने लिए चाहते हो वह दूसरों के साथ करना. बहुत अच्छी बात है कि अधिकतर मुस्लिम भाई बहनों ने जाकिर नाइक जैसे दहशतगर्दों के खिलाफ बोलने की ताकत जुटाई. इसी तरह सच का साथ और झूठ की मुखालफत ही सच्चे तालिब ए इल्म की निशानी है.

This article is also available in English at http://agniveer.com/716/hate-zakir/

Eternal Religion Of Humanity

Eternal Religion Of Humanity

First ever authoritative book on Eternal Religion of Humanity- Hinduism! Gives a solid framework to identify fraud in name of religion and adopt only the rational and beneficial. More info →
Buy now!

This article is also available in English at http://agniveer.com/716/hate-zakir/

Facebook Comments

Join the debate

250 Comments on "आखिर मुसलमान जाकिर नाइक से इतनी नफरत क्यों करते हैं?"

Notify of
avatar
500

jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ALLAH KI HAISIYAT???- ye jo allah hai koi dimag ki soch hai,muhammad ki mind vision hai.jyada se jyada ye man tak hi chalang le pati hai.ALLAH JO HAI WO AACCHE SAPNE BHEJTA HAI AUR BURE SAPNE SHAITAN SE AATE HAI – aisa kahna hi dimag ka star ,mentality darshata hai.bahot… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
SATANIC VERSES KI SACCHAI – aaj tak satanic verses ki sacchai samne nahi aayi thi,pahli baar raj khul raha hai.sabhi budhimani logonko ye baat samaj me nahi aayi ki,jo aayate allah ke 3 beti,bete ka zikr karti hai,us me do ayte pahale thi aur bad me,nikali gayi.uska khulasa ki, wo… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ISLAM KI SACCHAI 9 – islam ka arth peace nahi hai,nahi tha aur nahi rahega.islam ka arth hai sharanagati.kuch akal ke diwane jaise batate hai islam=peace bebunuyad aur sabse bada jhuth hai.Islam=Submission,Salam=Well-being/Peace,(Derivation of Salama=The stinging of a snake or the tanning of theleather,Saleema=To be saved or to escape from danger(when… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ISLAM KI SACCHAI 8 – The prophet of Islam committed SHIRK – he was a hypocrite – he made himself Allah’s partner! Read carefully…. O you who believe, obey Allah and His Messenger … ” (8:20) “Say: obey Allah and obey the Messenger … ” (24:54) … “Obey Allah and… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ISLAM KI SACCHAI 7- Then Allah’s Apostle returned with the Inspiration, his neck muscles twitching with terror till he entered upon Khadija and said, “Cover me! Cover me!” They covered him till his fear was over and then he said, “O Khadija, what is wrong with me?” Then he told… Read more »
shahbaz
shahbaz
3 years 10 months ago
hello sir apko btao ke maine puri ramayan padhi hai us me ye tak nahi batya gaya ke apne padhosi se kaisa sulook karen to hame raha kya dikhaegi (feelmat karna its true) aur aap ek bar quran padhe usme likha insaan ke paida hone se pahle jab wo maa… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
3 years 10 months ago
@ SHRI SHHBAZ JI , “DUSRE KE SATH VAHI VYAVHAR KARO JO APNE LIYE BHI PASAND AYE ” yahi ek matr sutr hai dharmik v manvata vadi vaykti kahalane ka! geeta ved manusmriti adi padhiye yah kuran se kai guna behatar ghai ! kuran to “mul ki bhul hai ”… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
@rsdfgg,pagalonme awwal,tu pahale apne chitt ko saf kar,shudh kar sab vishwas se mukt ho ja swikar kar ki allah ek mithak hai,false concept hai,muhammad ki dimagi soch hai.fir tuze mai ved ka gyan dunga….ha.ha.ha..bina allah ka vichar liye ved ka gyan nahi mil sakta tu quran chod .ved ka eshwar… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
@rsdfgg,paglonke seertaj allah ne duniya banayi ye uske smruti se ki bina smruti se??? kyo ki bina memory ke aadmi kuch samaj nahi pata,bina memory ke aadmi kuch bhi bana nahi sakta ye siddha hota hai to allah ki smrti kya hai??? Allah to akela hai phir use smriti bhi… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
@rsdfgg,pagalonke masiha,??? Allah ne duniya banai ye kis gadhe ne tuze kaha???ha.ha.ha.tu kahta hai allah ne banai aur wo ek hai phir ek hi duniya banata,wo khud aur duniya ye alag-alag kaise ho gayi???wo ek hai to duniya kaha hai??? us ke andar ke bahar????ha..ha..ha…jo table ko banata hai wo… Read more »
rsdfgg
rsdfgg
3 years 10 months ago
@pagal-shankar, tu isliye answer nahi de raha kiyunki tu de hi nahi sakta. is ka answer dene mein dar gayakiya? pol khulne ka darr hai kiya ki tu bhi bina dekhai cheezon ko manta hai??? teri asani k liye phir likh deta hun …hahahaha //vedon k ishwar ko tune dekha… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
I piss on the Kaaba. I don’t worship it. I WORSHIP ALLAH ALONE. I piss on the Quran. I don’t worship it. I WORSHIP ALLAH ALONE. I piss on the prophet Muhammad (may shit be upon his head). I don’t worship him. I WORSHIP ALLAH ALONE. I piss towards Mecca.… Read more »
rsdfgg
rsdfgg
3 years 10 months ago
@pagal-shankar, is ka answer dene mein dar gaya kiya? pol khulne ka darr hai kiya ki tu bhi bina dekhai cheezon ko manta hai??? teri asani k liye phir likh deta hun …hahahaha //vedon k ishwar ko tune dekha hai kiya? agar nahi dekha aur manta hai to phir tu… Read more »
manish
manish
3 years 10 months ago
did any of you found out conspicuous, the utter silence of media over recent riots in LOWER ASSAM…….well, i know, almost everyone of you felt it. but the question is, how can we translate this feeling of ours, into actions i.e. how can we help our BODO brothers. it’s a… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ISLAM KI SACHHAI 4- ISLAM ME YE BAATE NAHI HAI1) chitt ya mind aur uske nirodh, thahrna,shant hona is koi gyan islam me nahi hai 2) atmagyan hona aapne andar ke aatma ka sakshat karna 3) sab ki jad man hai ,ye man hi dukh ka karan hai aur man… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
CHALLENG TO DR.ZAKIR NAIK 2- koi bhi hindu dr.zakir naik se ye sawal kare -ALLAH EK HAI YA ANEK? EK HAI TO ANEK KO KYO BANAYA? ANEK HAI TO BAKI KE ALLAH KAHA HAI? ALLAH EK HAI TO DUNIYA KIS SE JUDI HAI? ALLAH SE JUDI HAI TO WO EK… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ISLAM KI SACCHAI 3-KOI BHI HINDU DR.ZAKIR NAIK KO YE SAWAL KARE 1) ALLAH NE SABKO BANAYA,IS ME INSSAN KO BHI BANAYA TO YE ALLAH AADMI KO KYA SAMAJTA HAI? “BODY” “MIND” YA “SOUL” AADMI KI BODY 5 WAYS SE KNOWLEDGE LETI HAI ,AANKH,KAAN,NAAK,ZIB,CHAMDI AUR BRAIN JO HAI WO KNOWLEDGE… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
CHALLENGES OF DR.ZAKIR NAIK-ISLAM KI SACCHAI 2- 1)ALLAH JO HAI USKO KOI BHI DEKH NAHI SAKTA,JO DIKHAI NA DE SIRF US PAR BELIEF KARE YE ISLAM HAI.TO PHIR JO JO DIKHAI NA DE UNKO BHI MANO EX.DETA HU TAKI AASANI SE SAMAJ ME AAYE- ULLAH,JULLAH,KULLAH YE BHI DIKHAI NAHI DETE… Read more »
kamal Sharma
3 years 10 months ago

brothers ham log aaj tak aapas mein ladte rhe or christian kitne aage nikal gaye , isliye ab to jago

kamal Sharma
3 years 10 months ago

Insan ko dharam ke nam se nahi uske kam ke hisab se jano, jai hindu, jai musalman

jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ISLAM KI SACCHAI- YE JO ALLAH HAI YE EK MITHAK,EK FALSE CONCEPT HAI.KYO?1)Muhammad ke siva kisi ko nahi pata.2) abhi tak kisi ko nahi mila.3) siva muslims bane kisi ko nahi dikhega,bhale hi uske banaye chand,suraj bina muslim huye dikte rahenge par wo nahi dikhega.4) bina hajj kiye muslims ko… Read more »
vivek
3 years 10 months ago
Lord Shiva and Allah are same. Kaaba was once a Hindu temple, and Hindus worshiped lord Shiva inside Kaaba. This is from History, While studying history you can found that, Soudhi Arabia was under the control of king vikramadithya during his reign. There are so many evidences that vikramadithya worshiped… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
@jai shankar (fake id banane wala),manushya yudh karta hai to wo bahar ke khshetra me jeet jata hoga par aksar ye paya jaata hai ke wo antas ke khshetra me hara hua hi paya jata hai, sikandar mahan bahar to jeeta par bhiter ki ladai wo haar gaya, jaate waqt… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
ek doha jo bahut kuch kahta hai, “BUND” SAMANA SAMUND ME,HERAT HERAT HE SAKHI RAHYA KABIR HERAI. Ye sadharan chit ki awastha hai, par jaise Vishwas mukta hota hai chit to ye hota hai,”SAMUND” SAMANA BUND ME,HERAT HERAT HE SAKHI RAHYA KABIR HERAI. Pahle to main aapko ek baat batata… Read more »
jai shankar
jai shankar
3 years 10 months ago
islam ki original teaching kho gai hai .thodi thodi ved ke vichar jaha nirgun,shunya,koi aakar nahi ,koi sathidar nahi,keval wo hi hai, ye teaching corrupt ho gai hai.kyo ki har bachha hindu paida hota hai.kaise suno. Jab baccha ma ke pet me hota hai tab uske chitta par koi akar… Read more »
Mohammad Azhar
3 years 10 months ago
Jinko Zakir naik nahi pasand na pasand karein… aapko pata hona chahiye ki dilo ki baato jaane waala Allah hai. aur Allah khud unn logo se nafrat karta hai jo dilo me hasad rakhte hain aur fasaad failaate hain. but agar zakir Naik agar koi baat Hamare pyare nabi ki… Read more »
Mohammad Azhar
3 years 10 months ago
bahut se log ye jaanna chahte hain k sabs sachcha firqa kaun sa hai… toh suno…… … 1… Jisne apne rab ki quran … .. 2… Aur apne pyare nabi kareem mustufa muhammad S.A.W <> k farmaan(hadith) ko maana aur amal kiya… .. wohi firqa jannati hoga…… hame Firqa parast… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
3 years 10 months ago
manniy shri azhar ji , agar sabse purana majahab islam hai to isai yahudi adi kaise ban gaye? vah kyo nahi apne ko islami ghoshit karte hai? keval kahane se koi majahab sabse purana nahi ho jata ?hai sabit bhi karna hota hai ! jab quran adam ji ko sabse… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
3 years 10 months ago
@manniye shri azhar ji aapko maloom hona chahiyye ki aryasamaji kabhi kisi sahi baat ko nahi mante to aap apni si cheshta aryasamajiyon ko samjhane ki kar sakte hain. yeh jo raj.hyd hain woh kehte hain ki main har kitab k khilaaf hun to agar koi musalman koi baat karega… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
3 years 10 months ago

raj,[email protected] isi nam se apni bat rakhni thi? kyo nahi dusri id banakar apni bat rakhte ? yahan par bhram kyo failana chahte hai ?kya yah sab jhuthi harkat nahi hai ?

ritesh sharma
3 years 11 months ago

jai shri ram

ik hi wikalp modi
3 years 11 months ago

jaankari ka bhandaar

arun verma
arun verma
3 years 11 months ago
mera ye kehna h god h to uske pas pahunchne ka rasta bhi ek hona chahiye.uski puja bhi ek dhang se ki jani chahiye.mano ya na mano god ek hi honge.mera ye manna h ki dharm ki kitabo me badlao zarur kiya gaya h.tabhi log ek hi god ko alag… Read more »
Mohammad Azhar
3 years 10 months ago

Allah (bhagwaan) ne puri manav jaati k liye ek hi dharm bheja hai Islam jo Allah ka dharm hai sabse purana hai,

Mohammad Azhar
3 years 10 months ago
“Ibrahim (AS) said to his father and his people: “What worship ye?” They said: “We worship idols, and we remain constantly in attendance on them.” He said: “Do they listen to you when ye call (on them), or do you good or harm?” They said: “Nay, but we found our… Read more »
dipankar
dipankar
3 years 11 months ago
Satya ek mukta aakash ke jaisa hai,jaha koi asahajata nahi,dharma vahi hai jo tumhe mukta karta hai sabhi se aur chode deta hai aghyat main… Taki tum vahi jano jo hain tumame aur sarva main…noor to hai bas aankh ki taraf eshara jo dikha de ….dharm keval eshare hai satya… Read more »
mohd muddsar
mohd muddsar
3 years 11 months ago

jakir naik muslmano ko bant raha hai ise desh dunia se alagkar dena chaiye.

Mohammad Azhar
3 years 10 months ago
ye kaam allah ka hai. Allah sabko uske gunaho ki saza aur nekiyo ka azre denewala hai,hum kisi k dil me uska imaan nahi jhaak sakte.. .. hum 1 ungli kisi ki taraf utha rahe hain toh baaki ki 3 hampe hi uthti hain….. khud iss qabil bano aur gunaho… Read more »
vishal
vishal
3 years 11 months ago

jab tak hinduon ke khilaf bola to sahi tha ab kharab hai

raj.hyd
raj.hyd
4 years 12 days ago
satya ki jay ji , abhi pichle sal amerika me ek padari ne kuran ko aag se jala diya tha? kitne muslimdesho ne amerika se sambandh tode kitner muslimdesho ne ameriki shasan se usko fansi ki mang ki? kitne muslim desho ne ameriki saman kka baihishkar kiya ? ameriki muslim… Read more »
Shah
Shah
4 years 12 days ago
Dosto Jo bhi agniveer ko read karne wale log hai main un sub ko adab bolta hu. sub se pehle mai bade adab k sath us bwakuf admi ka lanat karta hu jisne ye pura lekh likha or unko bhi jo isko shaire ka rehe hai jub tak kisi chiz… Read more »
Aaftaab Taneja
Aaftaab Taneja
4 years 1 month ago

Hello Arya Pathik, remember me. How are you doing.

syed kamran ali
syed kamran ali
4 years 1 month ago

my dear brother first of all u should read about islam sham of u zakir bhai is the gratest scolar of the world

HAHAHA
HAHAHA
4 years 1 month ago
mustakim
mustakim
4 years 1 month ago
bhai ,, tu jo bhi hai ,, aik baat janle ,, Islam me bahot kam log hai jo jakir bhai se nafrat karte hai,, Iska matlab yeh nahi ke sare muslman Jakir naik se nafrat karte hai,, Aaj uski bate logo ko chubti hai ,, aur bade bade pandit aur… Read more »
vishal
vishal
3 years 11 months ago

tumhare leya dost jinda bad rahega

Ali
Ali
3 years 11 months ago

I do like zakir, He is brain washing young muslim. pls muslim bhai keep away from him.

Ali
Ali
3 years 11 months ago
I do not like at all to zakir, He is brain washing young muslim. pls muslim bhai keep away from him. i was with Mr.Zakir some time but thanks to my family as they save me from him. all the time only brain washing against all the people whose do… Read more »
HAHAHA
HAHAHA
4 years 1 month ago
ZAKIR NAIK KYAA HAI – WO TOH HAM JAANTE HAI. BOLTAA HAI – EVERY MUSLIM SHOULD BE A TERRORIST. YOUTUBE PER VIDEO HAI – CHAAHE TO DEKH LO. ABHI SAARE MUSLIM TERRORIST NAHI HAI, PHIR BHI USA NE BADNAAM KARKE RAKHA HAI. KHUD SOCHO KI AGAR SAB TERRORIST BAN GAYE… Read more »
mustakim
mustakim
4 years 1 month ago

bhai pehli bat jo jankari Jakir naik Ke bare me jamaa ki hai , woh galat jankari hai,,
Aik mahan hasti pe Iljam lagane se pehle sahi jankari hasil karlo,,,

talat
talat
4 years 5 months ago
dear all, ye bhai ne upar jo kuch likha hai sirf aur sirf time barbaad kar rahe hai. koi fayda is se nahi hai. aur sabhi hai se anurodh hai ki follow the truth. agar in bhai sahab ko kuch sabit hi arna hai to stage pe zakir sahab ke… Read more »
al ghulam
al ghulam
4 years 5 months ago

Arey muaa zakir naik hai kidhar? I mean kaunse kichad mein muhh chhipaa ke baithaa hai? kisi ko dikhaayee de to mere taraf se 10 chappal maar denaa.

Aaftaab Taneja
Aaftaab Taneja
4 years 1 month ago

Hyderabad mein ghar hai uska. train pakad aur ja uske samne. hum bhi dekhe to kya karta hai.

Aaftaab Taneja
Aaftaab Taneja
4 years 1 month ago

Kyu tujhe khud maarne mein sharam aati hai

hrituraj
hrituraj
4 years 5 months ago
na hindu banenge na musalman banenge insan ki aulad hai insan banenge. insan ki pehchan uske dharma se nahi uske karma se honi chahiye like mother teresa.phir hum dharma ke vivad me kyon pade achchhe karm karo ek dusre ki sahayata karo aurton ko brabari ke mauke do khush raho… Read more »
Matin
1 month 9 days ago

Dharam hame insanit sikhate hai insaniat dharam nahi sikhate .aap andarbiar pahinke nahateho Sub kesamne aurton ko barabar ka mauka do

Panacea
Panacea
4 years 6 months ago
Musalman sirf maukaPrast aur matlabPrast hote hai.. yahan par uski ek jhalak dekh lijiye… 2nd world war ke baad, America me Osama Bin laden naam ke musalmaan ko apna saath kiya aur usse khub paise diye, power diya taki wo uske saath Russia ke against gurrila war me saath de.aur… Read more »
aabarty
aabarty
4 years 6 months ago
Mr. Panacea lagta hai osama ke sath kafi kam kia hai aapne, kafi knowlege hai aapko. Afsos ki baat hai ki yaha par log sach ko accept karne ki bajae usse bhag rahe hai. Panacea bhai aapne kaha ki muslman mauka parast hai, chalo man li baat, but aapko pata… Read more »
Panacea
4 years 6 months ago
Is Dharti ka pehla dharam “Sanatan Dharma” hai, aur ye hamesha rehega. ye duniya Islam ke aane se pehle bhi chal rahi thi aur aane ke baad phir chal rahi hai. Aur rahi baat Islam ne iss duniya ko kya diya hai, Islam ne iss duniya ko bade hi aache… Read more »
Ravi
4 years 7 months ago
Are yar Q ladte rhete hn ham log….mere muslim bhaiyo ak bar kuran ko padh k samjha h kavi??? agr oose folow kroge 100% to kha joge jannat ya jahhanum kisi ko nhi pta,is leya jo accha lekha h oose folow kro baki chodo agr 100% folow keya to alha… Read more »
Amarjeet
Amarjeet
4 years 7 months ago

padha likha mbbs bewkuf hai ye zakir nayak.

arya pathik
arya pathik
4 years 7 months ago

Pls give your VOTES :-

Zakir Naik or Zoker Naik.

trackback

[…] Naik – the mentor of terroristsScience and Zakir NaikThis article is also available in Hindi at http://agniveer.com/3293/hate-zakir-hi/Zakir Bhai MBBS aka Dr Zakir Naik has been among the most hated public figures of today. Deoband […]

krishna
4 years 8 months ago

एक बार ये पूरी कविता सुनिए और घटी का दर्द सुन आपके आंसू न आयें तो कहना ||
http://www.youtube.com/watch?v=RiAP35Fgvdw

shravak
shravak
4 years 8 months ago

अति सुन्दर, कृष्ण| धन्यवाद|

arif
arif
4 years 8 months ago

madarchodo behen k lodo apne kaam se kaam rakho….ye sab likhne ka tumhe koi haq nahi hai….kyoki tumhe kuch pata hota nahi isliye jo bhi bhokta hai usko chap dete ho….this post is totally wrong….you dont have any right of hurt our religious sentiments….

shravak
shravak
4 years 8 months ago

arif

agar sirf gaali dene se sachai sabit ho jati toh mein tumhari 4 galiyon ke badle dus galiya abhi dedeta hoon. lekin aisa nahi hai lalle, tark ka muqabala tarq se karo, gali galoch se tumhari ammi-abba ki talim ka star pata chalega.

SDC
SDC
4 years 8 months ago

While you have all the rights in the world to abuse other’s faiths and curse them to eternal hell. Isse kahte hain saccha musalman.

raj.hyd
raj.hyd
4 years 8 months ago
परम आदरणीय श्री आरिफ जी , क्या आपके परिवार में माताजी , बहन जी आदि नहीं है ?क्या आप आदम जी की तरह ,जन्नत से सीधे आये है ? यह बात तो कोई भी कह सकता है ! अभी कुछ दिन पहले हम तरकारी खरीदने तरकारी मंडी गए थे, वहां… Read more »
nidhi
nidhi
3 years 11 months ago
mr raj ap thik kh rahe ek sacha musalman kbhi gali nahi deta agar arif ji ne gali di hai to galat kiya hai agar ap islam ko janege to apko pta chalega ki yahi ek dharam hai jisme bhasha ki tehzeeb pr kafi zor diya gaya hai ap pehle… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
3 years 11 months ago
param pujy bahan nidhi ji ! hamne quran ko anek bar padha hai uski bhasha bhi achhi nahi hai ! dekhe quran 33/61 jisme kaha gaya hai ki fitkare huye gair muslim jahan kahi paye jayenge buri tarah katl kiye jayenge ! dekhe quran9/123 jisme qurani allah kahate hi ki… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
4 years 8 months ago
परम पूज्य श्री आरिफ जी, यह”सुन्दर सुन्दर ” गालियाँ आपने कहाँ से सीखी ?’हमारी जानकारी में कोई ऐसा स्कुल कालेज तो है नहीं ! हाँ मदरसे में सीखा हो तो उसका जरुर पाता दीजियेगा ! या आपने अपने परिवार से सीखी हो वह भी बतलाये ! इंटर नेट पर विचार… Read more »
Aatish
4 years 8 months ago

arif

Kripya apni madar e jaban ka istemal yahan na karen.

Shukriya

saurabh singh
saurabh singh
4 years 8 months ago
जाकिर नायक जरा इन सवालो का जवाब तो दे तो जाने मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश… Read more »
GULAM ALI
GULAM ALI
4 years 8 months ago
जनाब जाकिर नाइक साहब, आप मुसलमानों को बरगलाने का काम कर रहे हैं,अब मुसलमान बेवकूफ नहीं रहे,आप जैसे कट्टर उलेमा,मुल्ला मौलवी लोग मुसलमानों को दिन रात भड़का रहे हैं,आपको पता नहीं इसका अंजाम कितना खतरनाक होगा,देश में भयानक दंगे भड़केंगे,इसके लिए केवल आप और आप जैसे कट्टर खतरनाक लोग जिम्मेवार… Read more »
raj.hyd
raj.hyd
4 years 10 months ago
mahamahim shri jannat ji 1 ap bhi to batlaiye jnnat me kahan rahate hai ? ya keval nam rakhvakarke hi santushti le li hai ! hamko yah bhay ho raha hai ki kahin ap hamare jaise bevkoof se bat karke apki bevkoofi kahi “badh ” na jaye ? vaise ham… Read more »
jannat
jannat
4 years 10 months ago

chalo yaar ab kuchh aor baat karo kyu ki aap sach me bahut bare bewakuf ho …
aor batao raj ji aap kise ho?
aap ke abbu ammi kaise ha?

raj.hyd
raj.hyd
4 years 10 months ago
up rasul shri jannat ji , jo hamne prashn kiye hai uska to uttar aapne diye nahi ! fir bad me any prash karne ka adhikar kaise mil gaya ?usab aapne jo prahn kiye usko quran v hadees me dhundhiye shaayd vaha mi jaye ! isi tarah ke kuch rash… Read more »
jannat
jannat
4 years 10 months ago
ear gair muslim ji aap guh to samjhte hai na? guh matlab latring.. ab aap bhed bhav apane dil se nikal k achhe dhang se islam ki sikchha ko padhe .. sayad aap duniya me sabse tez failne wale dharm aor sahi dharm me shamil ho jai.. ye islam ki… Read more »
wpDiscuz